Friday, August 18, 2017

ईसाई मिशनरियों की खुल्ली चेतावनी धर्मान्तरण बंद नही होने देंगे

अगस्त 18, 2017

🚩उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी #आदित्यनाथ की तरह ही #झारखंड के #मुख्यमंत्री भारतीय #संस्कृति के अनुरूप सुचारू रूप से कार्य कर रहे हैं, लेकिन कुछ विधर्मियों को यह कार्य रुचता नहीं है इसलिए उनके विरुद्ध षडयंत्र कर रहे हैं।

🚩#झारखंड सरकार के #धर्मांतरण #कानून के विरोध में ईसाई समुदाय के लोगों ने गुरुवार को जुलूस निकाला और आम सभा का आयोजन किया ।
Open-warnings-of-Christian-missionaries-will-not-stop-converting

🚩आम सभा में झारखंड सरकार को उखाड़ कर फेंकने का आह्वान किया गया । जुलूस में काफी संख्या में शामिल महिला पुरुष हाथों में तख्ती लिए थे जिसमें रघुवर सरकार गद्दी छोड़ो, धर्म की आजादी छीनने नहीं देंगे सहित अन्य नारे भी लिखे हुए थे। जुलूस का नेतृत्व पूर्व विधायक नियेल तिर्की, थियोडोर कीडो के अलावा निल जस्टिन बेक, रीतेश कीडो व अन्य कर रहे थे ।

🚩गौरतलब है कि झारखंड धर्म स्वतंत्र विधेयक 2017 के प्रारूप को मंत्रीमंडल की मंजूरी मिल गयी है । विधेयक के धारा - 3 में #बलपूर्वक #धर्मांतरण को #गैरकानूनी बताया गया है और इसका उल्लंघन करनेवाले आरोपी को 4 साल जेल और 1 लाख जुर्माना तक होगा । अगर कोई अपनी मर्जी से धर्म परिवर्तन करता है तो प्रशासन को सूचित करना होगा ।

🚩आपको बता दें कि झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा था कि कुछ लोग हमारी दिव्य संस्कृति और परंपरा को नष्ट करने का प्रयास कर रहे हैं । लालच या प्रलोभन देकर धर्म परिवर्तन करा रहे हैं जो अपराध है ।  हिन्दू धर्म और #सनातन #संस्कृति पर चोट या आंच पहुंचाने की कोशिश करने वाले पादरियों को जेल भेजेंगे ।

🚩ईसाई #पादरियों को भारत में भोले-भाले #हिन्दुओ को #धर्मपरिवर्तन कराने के लिये वेटिकन सिटी से भारी फंडिग होती है, इस फंडिग से गरीब आदिवासी इलाकों में जाकर उनको #प्रलोभन देकर #धर्मपरिवर्तन करवाते हैं अब इन पर झारखंड के मुख्यमंत्री #रघुवर दास रोक लगा रहे हैं तो उनकी बोखलाहट बढ़ गई है लेकिन रघुवरदास अच्छी तरह जानते हैं कि सत्ता तो कुछ दिन की मेहमान है पर सनातन संस्कृति के लिए अच्छे कार्य करने का मौका कभी-कभी मिलता है इसलिए वो डरे बिना भारतीय संस्कृति अनुसार कार्य कर रहे हैं ।

🚩कुछ सेक्युलर बोलते हैं कि अच्छा है कि सरकार गरीबी नही मिटा रही है तो कमसे कम पैसे तो देते हैं जिससे उनकी गरीबी मिटती है । तो उन सेक्युलरों को पता होना चाहिए कि भारत से दूसरे देशों में बहुत गरीबी है उनको क्यों दूर नही कर रहे है?
भारत पहले सोने की चिड़िया कहलाती लेकिन विदेशी आक्रमणकारी भारत को लूटकर ले गये इसलिए आज भारत में गरीबी है और सेक्युलर लोग ध्यान रखें कि आज भी उनका #उद्देश्य वही है जो उनकी #जनसंख्या बढ़ाकर फिर से #भारत में राज करे,भारत को #गुलाम बनाये ।

🚩#ईसाई मिशनरियां #प्रलोभन देकर तो #मुसलमान #बंदूक के बल पर हिन्दुओं का #धर्मान्तरण करवा रहे हैं अतः इनसे सावधान रहें नहीं तो बड़ी मुश्किल से हजारों लोगों की कुर्बानी से मिली आजादी फिर से कहीं खो नहीं देना ।

🚩प्राण न्यौछावर करके भी, धर्म की रक्षा करने वाले गुरु तेग बहादुर ने कहा कि सुनो सिखों बड़भागिया, धड़ दीजिये धर्म न छोड़िये......!!!

🚩हमारे पूर्वज धर्म की रक्षा करने के लिए मरना पसन्द करते थे पर धर्मपरिवर्तन नही करते थे अगर आज वे धर्मपरिवर्तन करते तो हम सुख-शांति से जो रह रहे है वो नही रह पाते इसलिए धर्मपरिवर्तन वो हलाहल जहर है जिसका भूलकर भी स्पर्श न करें ।

🚩केंद्र सरकार को देशभर में #धर्मान्तरण के खिलाफ कानून पारित कर देना चाहिए जिससे #धर्म #सुरक्षित हो, देश सुरक्षित हो ।

🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻

🔺Blogger : http://azaadbharatofficial.blogspot.com

🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk

🔺Facebook : https://www.facebook.com/AzaadBharat.Org/

🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt

🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf

🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX

🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG

🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

Thursday, August 17, 2017

नरेंद्र मोदी को हिन्दुत्वनिष्ठों की सलाह : 370 धारा हटाने पर ही कश्‍मीर समस्‍या सुलझेगी


🚩अगस्त 17, 2017

🚩स्वतन्त्रता दिवस पर लालकिले से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने भाषण में कश्मीर के लोगों को गले लगाने के लिए कहा कि ‘‘न गाली से, न गोली से, परिवर्तन होगा, समस्या सुलझेगी, हर कश्मीरी को गले लगाने से।’’
 370 धारा हटाने पर ही कश्‍मीर समस्‍या सुलझेगी

🚩लेकिन इस पर कई हिन्दुत्वनिष्ठ आपत्ति जता रहे हैं शिवसेना ने अपने मुख्यपत्र सामना में लिखा कि “प्रधानमंत्री का यह बयान काफी चौंकाने वाला है। कश्मीर मसले का हल केवल धारा 370 हटाकर ही किया जा सकता है।”

🚩फिल्म अभिनेता अनुपम खेर का मानना है कि, कश्मीर समस्या का समाधान केवल धारा 370 को हटाने से ही संभव है । 
उन्होंने कहा कि, अगर वहां देश के अन्य हिस्सों के लोगों को संपत्ति खरीदने का अधिकार हो, शिक्षा के क्षेत्र में काम करने का अधिकार मिले तो इस समस्या का बेहतर समाधान हो सकता है। 

🚩खेर ने आगे कहा कि देश के अन्य हिस्सों के लोगों को जो अवसंरचना विकास का लाभ मिल रहा है, वह लाभ कश्मीर के लोगों को भी मिलना चाहिए !” धारा 370 के हटाने से अगर देश के अन्य हिस्सों के लोगों को वहां उद्योग लगाने, शिक्षा संस्थान खोलने, संपत्ति खरीदने का अधिकार हो जाता है तो समस्या का यह बेहतर समाधान हो सकता है।

🚩उन्होंने अलगाववादियों को निशाने लेते हुए कहा कि “चंद गिनती के लोग वहां की जनता के बारे में तय नहीं कर सकते कि, क्या होना चाहिए ? वहां के लोगों को भी बेहतर सुविधा मिले। यह तभी संभव है जब धारा 370 को हटा दिया जाए ।”

🚩जनार्दन मिश्रा ने लिखा कि पिछले 70 वर्षों में हर सरकार कश्मीरी गद्दारों, आतंकवादियों, अलगाववादियों को गले लगते ही तो आई है, 
कम से कम मोदी सरकार से ये उम्मीद है कि गले लगाने की शुरुआत कश्मीरी पंडितों से हो, इन्हें सम्मान के साथ इनको इनकी खोई हुई पहचान इनका हक और इनका सम्मान अब मिलना चाहिए।

🚩क्या है धारा 370?

🚩धारा 370 भारतीय संविधान का एक विशेष अनुच्छेद (धारा) है जिसके द्वारा जम्मू एवं कश्मीर राज्य को सम्पूर्ण भारत में अन्य राज्यों के मुकाबले विशेष अधिकार दिया गया है जो जवाहरलाल नेहरू के विशेष हस्तक्षेप से तैयार किया गया था। 

🚩विशेष अधिकार

🚩धारा 370 के प्रावधानों के अनुसार, संसद को जम्मू-कश्मीर के बारे में रक्षा, विदेश मामले और संचार के विषय में कानून बनाने का अधिकार है लेकिन किसी अन्य विषय से सम्बन्धित कानून को लागू करवाने के लिये केन्द्र को राज्य सरकार का अनुमोदन चाहिये।

🚩इसी विशेष दर्जे के कारण जम्मू-कश्मीर राज्य पर संविधान की धारा 356 लागू नहीं होती।

🚩इस कारण राष्ट्रपति के पास राज्य के संविधान को बर्खास्त करने का अधिकार नहीं है।

🚩1976 का शहरी भूमि कानून जम्मू-कश्मीर पर लागू नहीं होता।

🚩इसके तहत भारतीय नागरिक को विशेष अधिकार प्राप्त राज्यों के अलावा भारत में कहीं भी भूमि खरीदने का अधिकार है। यानी भारत के दूसरे राज्यों के लोग जम्मू-कश्मीर में जमीन नहीं खरीद सकते।

🚩भारतीय संविधान की धारा 360 जिसके अन्तर्गत देश में वित्तीय आपातकाल लगाने का प्रावधान है, वह भी जम्मू-कश्मीर पर लागू नहीं होती।

🚩विशेष अधिकारों की सूची

🚩1. जम्मू-कश्मीर के नागरिकों के पास दोहरी नागरिकता होती है।

🚩2. जम्मू-कश्मीर का राष्ट्रध्वज अलग होता है।

🚩3. जम्मू - कश्मीर की विधानसभा का कार्यकाल 6 वर्षों का होता है जबकि भारत के अन्य राज्यों की विधानसभाओं का कार्यकाल 5 वर्ष का होता है।

🚩4. जम्मू-कश्मीर के अन्दर भारत के राष्ट्रध्वज या राष्ट्रीय प्रतीकों का अपमान अपराध नहीं होता है।

🚩5. भारत के उच्चतम न्यायालय के आदेश जम्मू-कश्मीर के अन्दर मान्य नहीं होते हैं।

🚩6. भारत की संसद को जम्मू-कश्मीर के सम्बन्ध में अत्यन्त सीमित क्षेत्र में कानून बना सकती है।

🚩7. जम्मू-कश्मीर की कोई महिला यदि भारत के किसी अन्य राज्य के व्यक्ति से विवाह कर ले तो उस महिला की नागरिकता समाप्त हो जायेगी। इसके विपरीत यदि वह पकिस्तान के किसी व्यक्ति से विवाह कर ले तो उसे भी जम्मू-कश्मीर की नागरिकता मिल जायेगी।

🚩8. धारा 370 की वजह से कश्मीर में RTI, RTE और CAG लागू नहीं है। संक्षेप में कहें तो भारत का कोई भी कानून वहाँ लागू नहीं होता।

🚩9. कश्मीर में महिलाओं पर शरियत कानून लागू है।

🚩10. कश्मीर में पंचायत के अधिकार नहीं।

🚩11. कश्मीर में चपरासी को 2500 रूपये ही मिलते है।

🚩12. कश्मीर में अल्पसंख्यकों [हिन्दू-सिख] को 16% आरक्षण नहीं मिलता।

🚩13. धारा 370 की वजह से कश्मीर में बाहर के लोग जमीन नहीं खरीद सकते हैं।

🚩14. धारा 370 की वजह से ही कश्मीर में रहने वाले पाकिस्तानियों को भी भारतीय नागरिकता मिल जाती है।

🚩जब कश्मीर भारत का ही है तो उसके लिए अलग से कानून क्यों..???

🚩इसलिए हिन्दुत्वनिष्ठों की सलाह है कि मोदीजी 370 धारा हटाये और पुनः वहाँ पर लाखों कश्मीर पंडितों को बसाये । तभी ये समस्या सुलझेगी नहीं तो यह समस्या बनी ही रहेगी ।

🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻


🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk


🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt

🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf

🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX

🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG

🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ
Attachments area

पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों को नहीं है धार्मिक आजादी – अमेरिकी रिपोर्ट में दावा

🚩अगस्त 16, 2017


🚩वाशिंगटन : अमेरिका द्वारा जारी की गई एक रिपोर्ट में कहा गया है कि, पाकिस्तान में सिख, हिन्दू जैसे अल्पसंख्यक #जबरन #धर्मांतरण के डर में रहते हैं। रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि, अल्पसंख्यकों को यह चिंता भी है कि, पाकिस्तान सरकार जबरन धर्मांतरण को रोकने के लिए आवश्यक कदम नहीं उठा पाती है।
Minorities-in-Pakistan-do-not-have-religious-freedom-claims-in-US-report

🚩अमेरिका के विदेश मंत्री रेक्स #टिलरसन द्वारा जारी एक रिपोर्ट में ये बात कही गई है। रिपोर्ट में कहा गया है कि, पाकिस्तान में धार्मिक अल्पसंख्यकों के अधिकारों और #धार्मिक आजादी को #संरक्षण नहीं दिया जा रहा है।

🚩इसके अलावा पाकिस्तान में हुक्मरानों की कार्यशैली पर भी प्रश्न उठाए गए हैं। कहा गया है कि, केंद्र और राज्य सरकारों के स्तर पर हिन्दू, सिख और ईसाइयों की आजादी सुनिश्चित करने वाले कानूनों पर सही ढंग से अमल नहीं किया जा रहा है।

🚩रिपोर्ट में कहा कि, पाकिस्तान में धार्मिक अल्पसंख्यकों का कहना है कि, अल्पसंख्यकों को जबरन इस्लाम कबूल करवाने से रोकने में सरकार द्वारा उठाए गए कदम पर्याप्त नही हैं। पाकिस्तान में धार्मिक स्वतंत्रता पर खतरा है, वहां दो दर्जन से अधिक लोग ईशनिंदा के कारण या तो फांसी का इंतजार कर रहे हैं या उम्रकैद काट रहे हैं।

🚩रिपोर्ट में कहा गया है कि, सरकार अल्पसंख्यकों को ईंट बनाने जैसी बंधुआ मजदूरी से नहीं बचा पा रही है। ईंट बनाने और खेती से जुडे़ क्षेत्रों में ईसाई और हिन्दुओं को बंधुआ मजदूर रखा जाता है। रिपोर्ट में बताया गया है कि, हिन्दू और सिख नेताओं का कहना है कि, अल्पसंख्यकों को विवाह रजिस्टर कराने में भी कठिनाई का सामना करना पड़ता है।

🚩#पाकिस्तान और #बांग्लादेश में दिन-रात #हिन्दुओं के #घर जलाये जा रहे हैं #हिन्दू #महिलाओं की #इज्जत #लूटी जा रही है, #मंदिर, घर, दुकानों को तोड़ा जा रहा है, पुजारियों की हत्या की जा रही है, हिन्दुओ की संपत्ति हड़प ली जाती है, #हिन्दुओं को मारा-पीटा जा रहा है, दिन-रात #हिन्दुओं को पलायन होना पड़ रहा है उसपर किसी नेता, मीडिया, संयुक्त राष्ट्र और सेक्युलर लोगों की नजर क्यों नही जाती है?

🚩भारत में तो मुसलमानों को अधिक सुख-सुविधाएं दी जा रही है फिर भी कुछ गद्दार, सेक्युलर बोलते है कि भारत में मुसलमान डरे हुए हैं लेकिन आजतक ये नहीं बोला कि पाकिस्तान, बांग्लादेश आदि मुसलमान बाहुल देश में हिन्दुओं पर कितना अत्याचार हो रहा है । नर्क से भी बत्तर जीवन जीना पड़ता है ।

🚩एक तरफ #बांग्लादेश में #हिन्दुओं पर #अत्याचार हो रहा है दिन-प्रतिदिन हिन्दू कम हो रहे हैं दूसरी ओर बंगाल, कश्मीर, तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक आदि राज्यों में हिन्दुओं की हत्यायें हो रही हैं उस पर सभी ने चुप्पी क्यों साध ली है?


🚩जो #हिन्दू कार्यकर्ता #हिन्दू #संत इन अत्याचारों के खिलाफ आवाज उठाते हैं उनको जेल भेज दिया जाता है या हत्या करवा दी जाती है ।


🚩ईसाई मिशनरियाँ और #मुस्लिम देश दिन-रात #हिंदुस्तान और पूरी दुनिया से हिन्दुस्तान को मिटाने में लगे हैं अतः हिन्दू #सावधान रहें ।

🚩अभी समय है हिन्दू #एक होकर #हिन्दुओं पर हो रहे प्रहार को रोके तभी हिन्दू बच पायेंगे ।हिन्दू होगा तभी सनातन संस्कृति बचेगी ।


🚩अगर #सनातन #संस्कृति नही बचेगी तो दुनिया में इंसानियत ही नही बचेगी क्योंकि #हिन्दू संस्कृति ही ऐसी है जिसने "वसुधैव कुटुम्बकम्" का वाक्य चरितार्थ करके दिखाया है ।

🚩#प्राणिमात्र में ईश्वरत्व के दर्शन कर, सर्वोत्वकृष्ट ज्ञान प्राप्त कर जीव में से #शिवत्व को प्रगट करने की क्षमता अगर किसी संस्कृति में है तो वो सनातन हिन्दू #संस्कृति में है ।

🚩#हिंदुओं की बहुलता वाले देश #हिंदुस्तान में अगर आज हिन्दू #पीड़ित है तो सिर्फ और सिर्फ हिंदुओं की निष्क्रियता और अपनी महान संस्कृति की ओर विमुखता के #कारण !!

🚩इन सब देखकर भी #हिन्दू कबतक चुपचाप बैठा रहेगा..???

 🚩जागो हिन्दू!!

🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻


🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk


🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt

🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf

🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX

🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG

🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

ईसाई मिशनरियों की खुल्ली चेतावनी धर्मान्तरण बंद नही होने देंगे

अगस्त 18, 2017 🚩उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी #आदित्यनाथ की तरह ही #झारखंड के #मुख्यमंत्री भारतीय #संस्कृति के अनुरूप सुचारू रूप से क...