Monday, August 21, 2017

9 साल से बिना सबूत जेल में बंद कर्नल पुरोहित को मिली अंतरिम जमानत

9 साल से बिना सबूत जेल में बंद कर्नल पुरोहित को मिली अंतरिम जमानत
अगस्त 21, 2017
Conspiracy-Against-hinduism-Exposed
सुप्रीम कोर्ट ने बिना सबूत 9 साल से कारागार में बंद कर्नल पुरोहित की अंतरिम जमानत मंजूर कर दी है। लेफ्टिनेंट कर्नल प्रसाद श्रीकांत पुरोहित पर 2008 में हुए मालेगांव बम धमाके के आरोप लगाए गए थे। इस बम धमाके में 6 लोग मारे गए थे।
उच्चतम न्यायालय ने अंतरिम जमानत देते हुए कहा, “हम मुंबई उच्च न्यायालय के निर्णय को पलट रहे हैं।” बता दें उच्चतम न्यायालय ने 17 अगस्त को ही जमानत मामले पर अपना निर्णय सुरक्षित रखा था।
कर्नल पुरोहित ने न्यायालय से कहा था कि, वह बीते 9 वर्षों से कारागार में हैं और वे जमानत पाने के हकदार है। पुरोहित ‘अभिनव भारत’ के गठन से पहले सेना में थे। अभिनव भारत का गठन उन्होने हिंदू राष्ट्र के लिए किया था। वारदात में अपने शामिल होने से इनकार करते हुए पुरोहित ने न्यायालय से कहा था कि, अगर यह मान भी लिया जाए कि, उन पर लगाया गया बम की आपूर्ति करने का आरोप सही है तो भी उन्हे कारागार से बाहर होना चाहिए क्योंकि इस अपराध का भी अधिकतम दण्ड 7 वर्ष है जो वह पहले ही काट चुके है।
आपको बता दें कि गृह मंत्रालय में और पूर्व रक्षा सलाहकार एस. डी प्रधान पहले ही खुलासे कर चुके है कि तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने देश-विदेश में हिन्दुओं की बदनामी करने के लिये पाकिस्तान के आतंकवादी की जगह निर्दोष हिन्दुत्वनिष्ठों को जेल में डाल दिया था ।
अब जनता सवाल कर रही है कि यातनाऐं देकर 9 साल से कर्नल पुरोहित को जेल में रखा गया, और अब न्यायालय ने जमानत दी तो 9 साल से जो  बिना सबूत #जेल में रखा, उनका जो समय गया, उनका स्वास्थ्य गया वो क्या न्यायालय लौटा पायेगा?
मीडिया ने उनकी जो खूब बदनामी की क्या वो इज्जत मीडिया दोबारा लौटा पायेगी ?
ऐसे ही कुछ समय पूर्व साध्वी प्रज्ञा को 9 साल में और स्वामी #असीमानन्द को 8 साल के बाद जेल से रिहा किया गया उनको भी बिना सबूत ही जेल में रखा गया था ।
ऐसे ही अभी भी बिना सबूत सालों से जम्मू के शंकराचार्य अमृतानन्द और छेड़छाड़ी के आरोप में हिन्दू संत बापू आसारामजी 4 साल से जेल में बन्द है, जबकि आसारामजी बापू को तो मेडिकल में क्लीनचिट भी मिल चुकी है और कॉल डिटेल्स से भी पता चला है कि जिस समय #छेड़छाड़ी का आरोप लगाया है उस समय तो वो लड़की अपने किसी मित्र से फोन पर बात कर रही थी और बापू आसारामजी भी किसी अन्य कार्यक्रम में व्यस्त थे और उनको षडयंत्र के तहत फंसाने के सैकड़ों सबूत भी मिले हैं लेकिन फिर भी जमानत क्यों नही मिल पा रही है???
क्या कानून सबके लिए समान है...???
क्यों नेता, अभिनेता, अमीरों को शीघ्र जमानत दी जाती है लेकिन हिंदुस्तान में ही हिन्दू संत #बापू #आसारामजी को 4 साल से और अन्य संतों और कार्यकर्ताओं को जमानत नहीं दी जा रही है ??
क्या यही हमारी उत्तम न्याय व्यवस्था है..???
देश के 9000 हजार करोड़ लेकर भागने वाले #विजय_माल्या को तो केवल 3 घण्टे में ही जमानत मिल गई ।
इन निर्दोष हिन्दू #साधु-संतो के खिलाफ एक भी सबूत नहीं है फिर भी इनको सालों से जेल में रखा जा रहा है, #मीडिया द्वारा खूब बदनामी की जाती है।
आखिर ऐसा क्यों ???
क्या इनका यही गुनाह है कि इन्होंने धर्मान्तरण पर रोक लगाई और गाँव-गाँव, नगर-नगर जाकर #देश-विदेश में हिन्दू संस्कृति का प्रचार प्रसार किया । जनता में राष्ट्र भक्ति जगाई ।
क्या इनका यही गुनाह था कि इन्होंने विदेशी कंपनियों से लोहा लिया और लोगों को #स्वदेशी की ओर मोड़ा।
क्या इनका यही गुनाह था कि विदेशी कल्चर का #बहिष्कार करवाया और भारतीय संस्कृति की ओर आकर्षित किया ।
या ये गुनाह है कि इन्होंने अनेक गौशालायें खुलवाकर #कत्लखाने जाती गायों को बचाया और लोगों को गाय माता को बचाने के प्रति जाग्रत किया ।
लगता है इनका #हिन्दू_संत होना ही सबसे बड़ा गुनाह है क्योंकि इस देश में सिर्फ हिन्दू #संतों और कार्यकर्ताओं से ही उनके मौलिक अधिकार छीन लिए गए हैं।
एक बात तो पक्की हो गई कि जो भी हिंदुत्वनिष्ठ आगे आकर हिन्दू संस्कृति के प्रचार प्रसार में लगेगा उन पर #राष्ट्रविरोधी तत्वों द्वारा ऐसे ही हमला होगा ।
अब हिन्दू का जगने का समय आ गया है। हिन्दुत्वनिष्ठों के साथ हो रहे अन्याय पर अब हिन्दू चुप नहीं बैठेगा ।

No comments:

Post a Comment

बलात्कारी मौलवी को आठ साल की सजा, मीडिया में छाया मातम, साधी चुप्पी

सितम्बर 22, 2017   मीडिया हिन्दू साधु-संतों पर कोलाहल करती रही, वहाँ बलात्कारी मौलवी को आठ साल की सुनाई सजा, अगर यही मुद्दा किस...