Wednesday, September 6, 2017

मीडिया हिन्दू धर्मगुरुओं पर ही बहस करती रही वहाँ मौलवी और फादर ने कर दिया बलात्कार

मीडिया हिन्दू धर्मगुरुओं पर ही बहस करती रही वहाँ मौलवी और फादर ने कर दिया बलात्कार
अगस्त 6, 2017
मात्र एक वर्ग विशेष पर नजर गड़ाये बैठा खास मीडिया वर्ग ना जाने इन खबरों को क्यों नहीं दिखा रहा है, क्यों भगवा वस्त्र देख अपने सारे कैमरे अचानक ही सब महत्वपूर्ण खबरों पर से हटाकर उधर घूमा देता है ??
पिछले काफी समय से एक ही खबर पर चटखारे ले रहा और जबरन राम नाम को बार बार खींचने की कोशिश कर रहा एक बड़ा वर्ग इस खबर को क्यों नहीं सुर्खियाँ बना रहा है जहाँ गुरु शिष्या के रिश्ते तो कलंकित हुए ही हैं साथ ही एक बड़े भरोसे का भी कत्ल हुआ है जहाँ एक माता पिता ने अपनी बेटी उस हैवान को सौंप दी जिसे वही नहीं बल्कि सभी फादर और मौलवी कहते हैं ।

rape by father in missionary school

अपने नाम के आगे फादर और मौलवी लगाने वाले उस विधर्मी ने गुरु शिष्या के रिश्ते को तार-तार करते हुए अपने ही स्कूल की एक छात्रा का बलात्कार किया है। 
ईसाई पादरी का मामला मध्यप्रदेश के रीवा के बड़े और नामी क्रिश्चियन स्कूल ज्योति में ईसाई फादर जार्ज ने 12 वी कक्षा में पढ़ने वाली नाबालिग छात्रा का बलात्कार किया, और हिन्दू संगठनों ने आवाज उठाई तो भाग गया, पुलिस ने फादर के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है । छात्रा को धमकाया भी गया था और पहले भी कई लड़कियों के साथ दुष्कर्म किया था लेकिन डर के कारण बता नही पाती थी ।
यहाँ ये भी ध्यान देने योग्य है कि ईसाईयत के प्रचार के लिए इन्होने स्कूल का नाम ज्योति रखा है जो हिन्दुओं को आकर्षित करने में मदद करता है वहां का माहौल विदेशी रूप में बना कर रखा है और इसका प्रिंसिपल जार्ज चर्च में रहता है ।
दूसरा मामला
मस्जिद में उर्दू की पढाई करने आने वाली नाबालिग बच्ची का मौलवी ने ही बलात्कार कर दिया। पुणे ग्रामीण पुलिस ने मौलवी को गिरफ्तार कर लिया मौलवी पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग का रहने वाला है उसका नाम शाहिद रजा मुनीर है ।
बच्ची राजगुरुनगर के तुरुकवादी गाँव की रहने वाली है, बच्ची को उर्दू सिखाने के लिए मौलवी के पास भेजा था पर मौलवी ने बच्ची का बलात्कार किया ।
बच्ची डर कर घर वापस चली गयी, लेकिन वो छोटी थी तो वो पीड़ा सह नहीं पायी और उसने अपने परिजनों को सब बता दिया ।
कुछ दिन पहले भी 39 महिलाओं का रेप करने वाले मौलवी को गिरफ्तार किया है लेकिन मीडिया केवल हिन्दू धर्म के गुरुओं को ही झूठी कहानियां बनाकर बदनाम कर रही है पर इन सच्ची खबरों पर कोई मीडिया दिखाने के लिए तैयार नही है ।
अगर मीडिया इतनी निष्पक्ष होती तो मौलवी और ईसाई फादर के लिए भी खबरें दिखाती और डिबेट बैठाकर उनके खिलाफ भी बहस करती लेकिन ऐसा नही कर रही है इससे साफ पता चलता है कि मीडिया को बाकि कोई खबरों से लेना देना नही है।
मीडिया का केवल यही उद्देश्य है कि कैसे भी करके भारतीय संस्कृति को खत्म कर दिया जाये इसलिए हिन्दुओं के धर्मगुरुओं को टारगेट किया जा रहा है जिससे उनके ऊपर जो करोड़ो लोगों की आस्था है वो टूट जाये और पश्चिमी संस्कृति को अपना ले ।
और बड़े मजे की बात है कि उस न्यूज को हिन्दू ही देखते हैं और बाद में उन्हीं का मजाक उड़ाते है कि देखो कैसे भक्तों को मूर्ख बनाकर पैसे लूट रहे हैं और लड़कियों के बलात्कार करते हैं, लेकिन वही भोला भाला हिन्दू दूसरी ओर कभी नही सोचता कि आखिर हमारी देश की कई बड़ी बड़ी समस्याएं है, मंहगाई, बेरोजगारी, किसानों की आत्महत्या, राम मंदिर, 370, गौ हत्या आदि आदि पर मीडिया नही दिखाती है और न ही ईसाई पादरी और मौलवियों के खिलाफ दिखाती है । क्यों इतना प्राइम टाइम देकर हिन्दू धर्मगुरुओं पर ही बहस करती है तो आखिर इतने पैसे आते कहाँ से हैं..??
जैसा कि हम बताते ही आये हैं कि मीडिया का अधिकतर फंड वेटिकन सिटी और मुस्लिम देशों से आता है । जिनका उद्देश्य है कि कैसे भी करके हिन्दू संस्कृति को खत्म करें । जिससे वो आसानी से धर्मान्तरण करा सके ।
दूसरा पहलू ये भी है कि राजनेता भी नहीं चाहते हैं कि किसी भी धर्मगुरू के इतने फॉलोवर्स हो जिससे उनको हर चुनाव में उनके सामने नाक रगड़ना पड़े इसलिए वो भी इसमे शामिल है क्योंकि राजनेता केवल वोट बैंक को ही देखते हैं उनको हिन्दू धर्म से कोई लेना देना नही है।
हमने आज तक अपने पाठकों को सच्चाई से अवगत कराने का प्रयास किया है और आगे भी करवाते रहेंगे ।
आज हर हिन्दुस्तानी का कर्त्तव्य है कि वो मीडिया की बातों में न आकर स्वयं सच्चाई तक पहुँचने का प्रयास करे ।
जय हिन्द!!

No comments:

Post a Comment

बलात्कारी मौलवी को आठ साल की सजा, मीडिया में छाया मातम, साधी चुप्पी

सितम्बर 22, 2017   मीडिया हिन्दू साधु-संतों पर कोलाहल करती रही, वहाँ बलात्कारी मौलवी को आठ साल की सुनाई सजा, अगर यही मुद्दा किस...