Tuesday, May 22, 2018

जब राजपूत वीरांगना ‘किरण देवी’ से अकबर को मांगनी पड़ी अपने प्राणों कि भीख

22 May 2018
🚩राजपूत पुरुष जीतनी अपनी वीरता के लिए प्रसिद्ध थे उतनी ही प्रसिद्ध थी राजपूती महिलायें। इतिहास में अनेक ऐसी कहानियां है जो इनकी वीरता व अदम्य साहस को प्रमाणित करती है। आज हम आपको एक ऐसी ही ऐतिहासिक कहानी बताएँगे जब एक राजपूत वीरांगना ‘किरण देवी’ ने अकबर को अपने प्राणों कि भीख मांगने पर मजबूर कर दिया था !
When Rajput Veerangana 'Kiran Devi',
Akbar wanted to ask for his life
🚩अकबर प्रतिवर्ष दिल्ली में नौरोज के मेले का आयोजन करता था जिसमें वह सुंदर युवतियों को खोजता था और उनसे अपने शरीर कि भूख शांत करता है। एक बार अकबर नौरोज के मेले में बुरका पहनकर सुंदर स्त्रियों कि खोज कर ही रहा था कि उसकी नजर मेले में घूम रही किरणदेवी पर जा पड़ी।
🚩वह किरणदेवी के रमणीय रूप पर मोहित हो गया। किरणदेवी मेवाड़ के महाराणा प्रतापसिंह के छोटे भाई शक्तिसिंह कि पुत्री थी और उसका विवाह बीकानेर के प्रसिद्ध राजपूत वंश में उत्पन्न पृथ्वीराज राठौर के साथ हुआ था।
🚩अकबर ने बाद में किरणदेवी का पता लगा लिया कि यह तो अपने ही सेवक कि बिवी है तो उसने पृथ्वीराज राठौर को जंग पर भेज दिया और किरण देवी को अपनी दूतियों के द्वारा बहाने से महल में आने का निमंत्रण दिया।
🚩अब किरणदेवी पहुंची अकबर के महल में तो स्वागत तो होना ही था और इन शब्दो में हुआ, ‘‘हम तुम्हें अपनी बेगम बनाना चाहते हैं !’’ कहता हुआ अकबर आगे बढा तो किरणदेवी पीछे को हटी…अकबर आगे बढते गया और किरणदेवी उल्टे पांव पीछे हटती गयी…परंतु कब तक हटती पीछे…उसकी कमर दीवार से जा लगी।
🚩बचकर कहाँ जाओगी... अकबर मुस्कुराया, ऐसा मौका फिर कब मिलेगा तुम्हारी जगह पृथ्वीराज के झोंपडे में नहीं हमारा ही महल में है
🚩हे भगवान... किरणदेवी ने मन-ही-मन में सोचा... इस राक्षस से अपनी इज्जत कैसे बचाऊँ ? हे धरती माता.... किसी म्लेच्छ के हाथों अपवित्र होने से पहले मुझे सीता कि तरह अपनी गोद में ले लो ! व्यथा से कहते हुए उसकी आँखों से अश्रूधारा बहने लगी और निसहाय बनी धरती कि ओर देखने लगी तभी उसकी नजर कालीन पर पडी। उसने कालीन का किनारा पकडकर उसे जोरदार झटका दिया।
🚩उसके ऐसा करते ही अकबर जो कालीन पर चल रहा था पैर उलझने पर वह पीछे सरपट गिर पड़ा। ‘या अल्लाह !’ उसके इतना कहते ही किरणदेवी को संभलने का मौका मिल गया और वह उछल कर अकबर कि छाती पर जा बैठी और अपनी आंगी से कटार निकाल कर अकबर कि गर्दन पर रखकर बोली... अब बोलो शहंशाह... तुम्हारी आखिरी इच्छा क्या है ? किसी स्त्री से अपनी हवस मिटाने कि या कुछ और ?’’ एकांत महल में गर्दन से सटी कटार को और क्रोध में दहाड़ती किरणदेवी को देखकर अकबर भयभीत हो गया।
🚩एक कवि ने उस स्थिति का चित्र इन शब्दों में लिखा है ….
🚩‘‘सिंहनी-सी झपट, दपट चढी छाती पर,
मानो शठ दानव पर दुर्गा तेजधारी है।
गर्जकर बोली दुष्ट ! मीना के बाजार में मिस,
छीना अबलाओं का सतीत्व दुराचारी है।
अकबर ! आज राजपूतानी से पाला पडा,
पाजी चालबाजी सब भूलती तिहारी है।
करले खुदा को याद भेजती यमालय को,
देख ! यह प्यासी तेरे खून कि कटारी है !”
🚩“मुझे माफ कर दो दुर्गा माता’’ मुगल सम्राट अकबर गिड़गिड़ाया, तुम निश्चय ही दुर्गा हो कोई साधारण नारी नहीं मैं तुमसे प्राणों कि भीख माँगता हूँ। यही मैं मर गया तो यह देश अनाथ हो जाएगा !’ ‘ओह !’ किरणदेवी बोली, देश अनाथ हो जाएगा जब इस देश में म्लेच्छ आक्रांता नहीं आए थे तब क्या इसके सिर पर किसी के आशीष का हाथ नहीं था ? नहीं, ऐसी बात नहीं है... अकबर फिर गिड़गिड़ाया, ‘‘पर आज देश कि ऐसी स्थिति है कि मुझे कुछ हो गया तो यह बर्बाद हो जाएगा ! अरे मूर्ख देश को बर्बाद तो तुम कर रहे हो तुम्हारे जाने से तो यह आबाद हो जाएगा !
🚩‘‘महाराणा जैसे बहुत हैं अभी यहाँ स्वतंत्रता के उपासक !’’ हाँ हैं... वह फिर बोला ‘‘परंतु आर्य कभी किसी का नमक खाकर नमक हरामी नहीं करते !’’ नमक हरामी... किरणदेवी बोली, तुम कहना क्या चाहते हो ? तुम्हारे पति ने रामायण पर हाथ रखकर मरते समय तक वफादारी का कसम खायी थी और तुमने भी प्रीतिभोज में मेरे यहाँ भोजन किया था फिर यदि तुम मेरी हत्या कर दोगी तो क्या यह विश्वासघात या नमकहरामी नहीं होगी ?
🚩विश्वासघाती से विश्वासघात करना कोई अधर्म नहीं राजन, किरणदेवी फिर गरजी... ‘‘तुम कौन से दूध के धुले हो ?’’ हाँ मैं दूध का धुला हुआ नहीं पर मुझे क्षमा कर दो हिन्दुओं के धर्म के दस लक्षणों में क्षमा भी एक है इसलिए तुम्हें तुम्हारे धर्म कि कसम मुझे अपनी गौ समझकर क्षमा कर दो !
🚩पापी अपनी तुलना हमारी पवित्र गौ से मत करो... फिर वह थोडी सी नरम पड गयी, यदि तुम आज अपनी मौत और मेरी कटारी के बीच में धर्म और गाय को नहीं लाते तो मैं सचमुच तुम्हें मारकर धरती का भार हल्का कर देती ! फिर चेतावनी देते हुए बोली... आज भले ही सारा भारत तुम्हारे पांवों पर शीश झुकाता हो किंतु मेवाड़ का सिसोदिया वंश आज भी अपना सिर उचा किए खड़ा है। मैं उसी राजवंश कि कन्या हूँ।
🚩मेरी धमनियों में बप्पा रावल और राणा सांगा का रक्त बह रहा है। हम राजपूत रमणियाँ अपने प्राणों से अधिक अपनी मर्यादा को मानती हैं और उसके लिए मर भी सकते हैं और मार भी सकते हैं !
🚩यदि तु आज बचना चाहता है तो अपनी माँ और कुरान कि सच्ची कसम खाकर प्रतिज्ञा कर कि आगे से नौरोज मेला नहीं लगाएगा और किसी महिला कि इज्जत नहीं लूटेगा। यदि तुझे यह स्वीकार नहीं है तो मैं अभी तेरे प्राण ले लूंगी भले ही तूने हिन्दू धर्म और गौ कि दुहाई दी हो। मुझे अपनी मृत्यु का भय नहीं है !
🚩अकबर को वास्तव में अनुभव हुआ किन्तु मृत्यु के पाश में जकड़ा जा चुका है। जीवन और मौत का फासला मिट गया था। उसने माँ कि कसम खाकर किरणदेवी कि बात को मान लिया... मुझे मेरी माँ की सौगंध, मैं आज से संसार कि सब स्त्री जाति को अपनी बेटी समझूँगा और किसी भी स्त्री के सामने आते ही मेरा सिर झुका जाएगा भले ही कोई नवजात कन्या भी हो और कुरान-ए-पाक कि कसम खाकर कहता हूँ कि आज ही नौरोज मेला बंद कराने का फरमान जारी कर दूँगा !”
🚩वीर पतिव्रता किरणदेवी ने दया करके अकबर को छोड़ दिया और तुरन्त अपने महल में लौट आयी। इस प्रकार एक पतिव्रता और साहसी महिला ने प्राणों कि बाजी लगाकर न केवल अपनी इज्जत कि रक्षा की अपितू भविष्य में नारियों को उसकी वासना का शिकार बनने से भी बचा लिया। और उसके बाद वास्तव में नौरोज मेला बंद हो गया। अकबर जैसे सम्राट को भी मेला बंद कर देने के लिए विवश कर देनेवाली इस वीरांगना का साहस प्रशंसनीय है !
🚩(संधर्भित पुस्तके – प्रख्यात ऐतिहासिक शोध ग्रंथ: वीर विनोद, उदयपुर से प्रकाशित प्रचंड अग्नि, हिन्दी साहित्य सदन, नई देहली)
लेखिका – फरहाना ताज
स्त्रोत : इनसिस्ट पोस्ट
🚩कैसे कैसे हमारे देश मे महान नारी हो गई और आजकल हीरो-हीरोइन के चक्कर मे आकर लड़कियां अपना ही सत्यानाश कर लेती है नही तो नारी में इतनी महान शक्ति है कि राजाओं को भी गिड़गिड़ाने को मजबूर कर देती है भारत कि देवियों जागो अब अपनी महिमा में नारी तू नारायणी है।
🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻
🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk
🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt
🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf
🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX
🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG
🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

Monday, May 21, 2018

बलात्कार का आरोप फर्जी निकलने पर महिलाओं के लिए फांसी का प्रावधान क्यों नहीं है?

21 May 2018

🚩नारियों कि सुरक्षा हेतु बलात्कार-निरोधक नये कानून बनाये गये । परंतु दहेज विरोधी कानून कि तरह इसका भी भयंकर दुरुपयोग हो रहा है । कुछ दिन पहले प्रतापगढ़ जिला एवं सेशन न्यायाधीश राजेन्द्र सिंह ने बताया कि दलालों द्वारा प्रतिवर्ष काफी संख्या में बालिकाओं तथा महिलाओं द्वारा दुष्कर्म के प्रकरण दर्ज कराए जाते हैंं। जिसमें अनुसंधान के बाद अभियुक्तों के विरूद्ध आरोप पत्र प्रस्तुत किए जाते हैं। न्यायालय में गवाही के दौरान 90 प्रतिशत मामलों में पीडि़ताएं मुकर जाती हैं। जिसमें खेत, सम्पत्ति व रास्ते कि रंजिश पारिवारिक अथवा अन्य कारणों से अथवा अभियुक्त को ब्लेकमेल कर रुपए ऐंठने के लिए झूठी रिपोर्ट दर्ज करवाई गई थी ऐसी स्थिति बताती है। पीडि़ताएं न्यायालय में स्वयं के द्वारा दी गई रिपोर्ट का भी समर्थन नहीं करती हैं ।
Why is there no provision for execution of
 execution on rape charges for women?

🚩दहेज उत्पीड़न के हजारो केस मे लगभग 90% केस फर्जी होते हैं ऐसे फर्जी केस ठोकने वाली लड़कियों को उम्रकैद कि सजा का प्रावधान क्यों नहीं है ??

🚩वैवाहिक बलात्कार मे पत्नी के गलत होने पर पत्नी को फाँसी/उम्रकैद कि सजा क्यों नही है ??

🚩जिस हिसाब से फर्जी छेड़खानी, घरेलू हिंसा , दहेज उत्पीड़न, वैवाहिक बलात्कार जैसे केसों का धड़ल्ले से दुरूपयोग हो रहा है इससे साफ स्पष्ट है कि आने वाले कुछ ही दिनों मे भारत से पुरुष नामक प्रजाति विलुप्त के कगार पर पहुँच जायेगी।  आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि महिलावाद एक धंधा बन चुका है जिसका सालाना टर्न ओवर "कइयो हजार करोड़" के ऊपर जा रहा है।

🚩NCRB (National crime report beauro) के अनुसार वर्ष 2013 में 65,000 से 70,000 हजार पुरुष हर साल महिला कानूनों से तंग आकर आत्महत्या करते थे। यानी हर  नौवें मिनट मे एक पुरुष सुसाइड करता था। वहीं महिलाओं का ग्राफ 25,000 से 29,000 था जिसमे आत्महत्या के विभिन्न कारण शामिल थे।

🚩2018 के हालात कुछ ऐसे हैं कि आज हर छठें से सातवे मिनट के अंतराल पर एक पुरुष आत्महत्या कर रहा है। आज भारत में हर एक से डेढ मिनट के भीतर एक फर्जी केस रजिस्टर हो रहा है। सोचिए कहाँ जा रहे हैं हम ??

🚩इन कानूनों का निर्माण महिला उत्थान के लिये किया गया था मगर आज पथभ्रष्ट स्त्रियां इसका धडल्ले से दुरुपयोग कर रही हैं... सरकार को इन पथभ्रष्ट स्त्रियों द्वारा किये जा रहे हर उस फर्जी केस पर कठोर कार्यवाही करनी चाहिए तथा ऐसी स्त्रियों को कारागार मे डालना चाहिए।

🚩बलात्कार का झूठा केस लगाकर पुरुषों का मानसिक, सामाजिक, शारीरिक और बौद्धिक हनन करने वाली लड़कियों को भी फाँसी की ही सजा होनी चाहिए।
झूठे दहेज उत्पीड़न, घरेलू हिंसा व वैवाहिक बलात्कार में फर्जीवाडा़ कि बदबू मिलते ही उम्रकैद से कम सजा नही होनी चाहिए।

🚩विवाह के नाम पर महिला कानूनों को अस्त्र बनाकर धड़ल्ले से धंधा करने वाली इस महिलावादी जमात पर शिकंजा कसना ही चाहिए।

🚩प्रेमी के साथ मिलकर ससुराल वालों व पति कि हत्या करने जैसी हर उस पथभ्रष्ट लड़कियों को कठोर से कठोर सजा मिलनी चाहिए।

🚩लिंगभेद के नाम पर भारत तबाह होने से रोकना है तो ऐसे कानून बनने ही चाहिए...!!

🚩अगर ऐसा नही हुआ तो वो दिन दूर नही जब एक के बाद एक निर्दोष पुरुष फंसते ही चले जायेंगे।

🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻


🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk


🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt

🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf

🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX

🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG

🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

Sunday, May 20, 2018

हिन्दू संत को झूठे रेप केस में सजा करवाने वाले अधिकारी को चीते ने फाड़ डाला...

19 May 2018

🚩सन 1994 द्वारका गुजरात के प्रसिद्ध संत केशवानंद स्वामी पर उनके ही ट्रस्ट('सनातन सेवा मंडल') द्वारा संचालित स्कूल में पढ़ती रीता नाम कि छात्रा ने उन पर बलात्कार का आरोप लगाया ।

🚩मीडिया को तो मानो एक बड़ा मसाला ही मिल गया,  दिन-रात स्वामी जी कि बदनामी करने में कोई कसर नहीं छोड़ी केशवानंदजी को मीडिया के द्वारा इतना बदनाम किया गया था कि कोई वकील उनकी तरफ से केस लड़ने को तैयार नहीं हुआ । 
Cheetah torn by an officer punishing the
Hindu saint in a false rape case

🚩अनेक पुलिस अधिकारियों ने आपस में मिलकर स्वामी जी के खिलाफ झूठे गवाह बनाये।

🚩स्वामी जी को गिरफ्तार करके जेल में भेज दिया गए। सेशन कोर्ट में केस चला । आखिरकार झूठे सबूतों के आधार पर सेशन कोर्ट ने स्वामी जी को 12 साल की सजा सुना दी ।

🚩लेकिन निर्दोष संत को सताने पर प्रकृति कोपित हो जाती है जिस अधिकारी ने यह षड्यंत्र रचा था उसको गोधरा (गुजरात) में चीते ने फाड़ डाला । दूसरा अधिकारी अशांति कि खाई में जा गिरा, तीसरे अधिकारी को भी भयंकर भोगना पडा, सभी अधिकारी तबाह हो गये।

🚩स्वामी केशवानन्द जी का केस उच्च न्यायालय में पहुँचा 2001 में स्वामी जी को निर्दोष बरी कर दिया गया पर 7 साल तक उनको जेल में ही रहना पड़ा ।

🚩उनको सजा दिलवाने वाले तो तबाह हो ही गये पर जो उनकी इतनी बदनामी हुई उसका क्या?
 इतने साल जो यातनाएं सहनी पड़ी और जो समय बर्बाद हुआ उसका क्या? क्या कोई न्यायालय या मीडिया या सरकार उसकी भरपाई कर पायेगा ?

🚩बता दें कि जलियांवाला बाग हत्याकांड का मुख्य गुनहगार जनरल डायर जिसने ग्यारह सौ निर्दोष लोगों कि जान ली थी वह अपने अंतिम दिनों में पागल हो गया था। वह बार-बार चिल्लाता था कि जिनके ऊपर मैंने गोलियां चलाई थी उनकी आत्मा मुझे परेशान कर रही है। उसके घरवालों ने उसे एक कमरे में बंद कर दिया था । अंत में वह पैरालिसिस सहित तमाम बीमारियों का शिकार होकर पागलपन में ही मर गया ।

🚩ठीक यही साध्वी प्रज्ञा और दूसरे हिंदुओं पर अमानवीय अत्याचार करने वाले महाराष्ट्र एटीएस के अधिकारियों के साथ हो रहा है पहले हेमंत करकरे का असामयिक निधन हुआ फिर 2 सालों के बाद उसकी पत्नी का निधन हुआ । फिर दूसरे अत्याचारी हिमांशु रॉय को कैंसर हुआ और उसने अपनी बीमारी से परेशान होकर अपने मुंह में रिवाल्वर रखकर फायरिंग करके आत्महत्या कर लिया । 

🚩वर्तमान में भी जो हिन्दू संत आसारामजी बापू के साथ अत्याचार हो रहा है उनको कांग्रेस सरकार के इशारे पर फंसाया गया। आज कांग्रेस कि क्या हालत है पूरे देश से छुपा नहीं है । पूरे भारत में केवल दो ही राज्यो में बची है ।

🚩स्वामी केशवानंद कि तरह का ही केस आसारामजी बापू के लिए भी बनाया गया है:

🚩तभी तो शाहजहांपुर(उत्तर प्रदेश) कि लड़की, (मध्य प्रदेश) छिंदवाड़ा में पढ़ने वाली, तथाकथित
घटना जोधपुर(राजस्थान) कि FIR दिल्ली में जाकर रात को 2:25 बजे होती है....वो भी घटना के पांच दिनों के बाद...!

🚩जब FIR में rape (बलात्कार) शब्द नही है, मेडिकल रिपोर्ट में rape कि पुष्टि नहीं हुई, मेडिकल रिपोर्ट में एक खरोंच भी नही आई । फिर भी राष्ट्र विरोधी ताकतों के इशारे पर बिकाऊ नेता और मीडिया के पूरे तंत्र ने बापू आसारामजी को आजीवन जेल के अन्दर रखने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा दिया ।

🚩स्वामी केशवानंद जी को षड़यंत्र के तहत जेल भेजने के लिए उनके ही भक्त होने का दिखावा करके जानबूझकर उन परिवार वालों ने अपने बेटी को स्कूल में दाखिल कराया था ये साबित हो गया। अब उनको ये सब करने के लिए कितने पैसे मिले होंगे वो तो भगवान जाने ।

🚩 ऐसे ही मामला हिन्दू संत आसाराम बापू पर है उनके ही भक्त कि गुरुकुल की लड़की को तैयार किया गया है फर्क इतना है कि केशवानन्द जी पर बलात्कार का केस लगाया गया और बापू आसारामजी पर छेड़छाड़ का आरोप लगाया है मेडिकल रिपोर्ट में कुछ नही होते हुए भी और सबसे बड़ा सबूत खुद लड़की कि कॉल डिटेल के अनुसार लड़की उस रात किसी संदिग्ध व्यक्ति से लगातार संपर्क में थी । लड़की कि उम्र के संबंध में भी दस्तावेज न्यायलय में पेश किए गए। अलग-अलग दस्तावेजों में लड़की कि उम्र अलग-अलग पाई गई ।

🚩फिर भी बापू आसारामजी को पॉक्सो एक्ट के तहत उम्रकैद कि सजा दे दी गई । 

🚩कैसी विडंबना है!!

🚩आगे जब बापू आसारामजी के केस कि अपील उच्च न्यायालय में होगी और उसमें वो निर्दोष बरी होंगे तो कौन लौटाएगा उनका वो समय, जो उन्होंने जेल में बिताया ??

 🚩मीडिया द्वारा कि गई बदनामी और उनकी उम्र का लिहाज न करते हुए उन पर कि गई यातनाओं का जिम्मेदार कौन होगा ???
🚩क्या भारत में हिन्दू संत होकर हिन्दू संस्कृति के लिए काम करना गुनाह है?

🚩अगर नहीं तो क्यों एक के बाद एक संतों को पहले फंसाया जाता है फिर सालों जेल में रखकर उन्हें निर्दोष बरी किया जाता है !!

ये सिलसिला आखिर कबतक चलता रहेगा ??

 🚩आखिर कब तक हिन्दू भी मूकदर्शक बना चुपचाप सब देखता रहेगा ???

🚩पिछले कुछ सालों से विदेशी ताकतों के इशारे पर संतों को जेल भेजने का षड्यंत्र पूरे जोरशोर से चल रहा है ।

🚩ये हम सब हिंदुओं के लिए भी शर्मनाक है कि हम सब ये देखकर भी मौन है और षड्यंत्रकारी अपने षडयंत्रों में सफल हो रहे हैं ।

🚩पर षड्यंत्रकारी सुन ले । ऊपर वाले कि लाठी में आवाज नहीं होती पर वो किसी को छोड़ती नहीं है हिन्दू भले अपने हिन्दू संतों के लिए कुछ न करे पर सबके सामने हैं कि अभीतक जिन अधिकारियों ने राष्ट्र विरोधी ताकतों के इशारे पर जिन हिन्दू संतों और हिंदुत्वनिष्ठों को फंसाने का काम किया । भगवान ने उन्हें सबक सीखा दिया । अभी वाले भी सावधान हो जाये तो अच्छा है नहीं तो आपका भी आने वाला समय बहुत बुरा है । क्योंकि कर्म किसी का पीछा नहीं छोड़ता । कर्म करने पर आपका अधिकार है उसके फल पर नहीं ।


🚩Official Azaad Bharat Links:👇🏻


🔺Youtube : https://goo.gl/XU8FPk


🔺 Twitter : https://goo.gl/kfprSt

🔺 Instagram : https://goo.gl/JyyHmf

🔺Google+ : https://goo.gl/Nqo5IX

🔺 Word Press : https://goo.gl/ayGpTG

🔺Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ